सभी बाल विकास परियोजना पदाधिकारी को दिया जरूरी दिशा निर्देश, योजनाओं के प्रदर्शन में सुधार लाना जरूरी

बोकारो से जय सिन्हा
बोकारो:  समाहरणालय स्थित कार्यालय कक्ष में उप विकास आयुक्त जय किशोर प्रसाद ने शनिवार को जिला समाज कल्याण विभाग द्वारा संचालित विभिन्न योजनाओं की प्रगति कार्य की समीक्षा की। उन्होंने क्रमवार बैठक में उपस्थित जिला समाज कल्याण पदाधिकारी एवं बाल विकास परियोजना पदाधिकारी से पोषण ट्रैक एप, प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना, मुख्यमंत्री सुकन्या योजना, मुख्यमंत्री कन्यादान योजना, पूरक पोषाहार वितरण तथा कुपोषण मुक्त हेतु किए जा रहे कार्यों की जानकारी ली और जरूरी दिशा निर्देश दिया।

उप विकास आयुक् ने राज्य से प्राप्त लक्ष्य को हर हाल में तय समय में पूर्ण करने को सभी सीडीपीओ को निर्देश दिया। कहा कि पूर्व में कोविड 19 के कारण सभी योजनाओं का प्रदर्शन प्रभावित हुआ है। लेकिन, एक बार फिर से हमें नई उर्जा के साथ संचालित योजनाओं को गति देना है ताकि संचालित योजनाओं का उद्देश्य पूरा हो सके। उन्होंने कार्य में लापरवाही बरत रहे कर्मियों को चिन्हित कर कार्रवाई करने को कहा। वैसे कर्मियों पर कार्रवाई के लिए जिला को भी अनुसंशा करें। किसी भी परिस्थति में लापरवाही बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

उप विकास आयुक्त जय किशोर प्रसाद ने जिला समाज कल्याण पदाधिकारी डा. सुमन गुप्ता को विभिन्न योजनाओं की प्रगति का प्रतिदिन मानीटरिंग करने को कहा। साथ ही इससे उन्हें अवगत कराने का भी निर्देश दिया।

समीक्षा में डीएसडब्ल्यूओ ने बताया कि पोषण ट्रैकर एप की इंट्री 30 मईतक पूर्ण करनी थी। लेकिन कोविड के कारण 20 जून तक इसे पूरा करना है। कई परियोजना क्षेत्रों का इंट्री 30 से 50 फीसद लंबित है। इस पर उप विकास आयुक्त ने तय समय तक पोषण एप की लंबित इंट्री को पूरा करने को कहा। इस कार्य को गंभीरता से सभी सीडीपीओ को लेने को कहा। पोषण एप की इंट्री अपूर्ण होने से पोषाहार आवंटन में परेशानी होगी।
उप विकास आयुक्त ने सभी परियोजना पदाधिकारी को मुख्यमंत्री कन्यादान योजना को भी लक्ष्य के अनुरूप गति देने को कहा। उन्होंने जून माह के लिए चंदनकियारी को दस, बोकारो स्टील सिटी को छह, चास ग्रामीण को दस, चास शहरी को पांच, कसमार को चार, पेटरवार को पांच, जरीडिह को आठ, बेरमो को छह, नावाडीह को छह, गोमिया को दस एवं चंद्रपुरा को छह आवेदन का लक्ष्य दिया।

उप विकास आयुक्त ने कहा कि कुपोषण को खत्म करने के लिए सरकार लगातार प्रयास कर रही है। जिले में संचालित कुपोषण उपचार केंद्र (एमटीसी) में उपलब्ध बेड के अनुसार बच्चों को चिन्हित कर उनका उपचार सुनिश्चित करें। कुपोषित बच्चों को सही पोषण मिले इसके लिए सभी जरूरी कदम उठाएं। इस पर कुछ सीजीपीओ ने स्वास्थ्य विभाग द्वारा सहयोग नहीं मिलने की बात कहीं। इस पर डीडीसी ने अगले कुछ दिनों में अलग से कुपोषण अभियान को लेकर बैठक करने को कहा। कहा कि समन्वय बनाकर एमटीसी का उद्देश्य पूरा करें।

इसके अलावा उप विकास आयुक्त ने मुख्यमंत्री सुकन्या योजना, प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना की भी समीक्षा कर लक्ष्य के अनुसार कार्य करने को कहा। उन्होंने आंगनबाड़ी केंद्रों में गैस कनेक्शन को लेकर चल रहे कार्य की भी समीक्षा की। बैठक में उपस्थित गैस कंपनियों के प्रतिनिधियों से केंद्रों में अविलंब गैस कनेक्शन सुनिश्चित करने को कहा है।