संभावित त्रिस्तरीय पंचायत आम निर्वाचन 2021 के निमित एक दिवसीय कार्यशाला संपन्न

: संभावित त्रिस्तरीय पंचायत निर्वाचन 2021 संबधित कार्यों एक कालबद्ध कार्यक्रम, अतः सभी निर्वाचन प्रक्रिया को गंभीरता से लें- उप विकास आयुक्त

: सभी निर्वाचन संबंधी कार्य निर्धारित समयावधि के अंदर पूर्ण करें- उप विकास आयुक्त

गुमलाः संभावित त्रिस्तरीय पंचायत आम निर्वाचन 2021 के निमित्त त्रिस्तरीय पंचायत के पदों एवं स्थानों में अनुसूचित जाति/ अनुसूचित जनजाति/ पिछड़ा वर्ग एवं महिलाओं के लिए स्थानों के आरक्षण एवं आवंटन के जिला निर्वाचन पदाधिकारी (पंचायत) सह उपायुक्त गुमला शिशिर कुमार सिन्हा के निर्देशानुसार उप विकास आयुक्त ने एक दिवसीय कार्यशाला के माध्यम से झारखंड पंचायत राज अधिनियम 2001 की धारा 17, 36, 51 एवं धारा 21, 40 एवं 55 तथा झारखंड पंचायत निर्वाचन नियमावली 2001 के नियम 09 से 18 तक में स्थानों एवं पदों के लिए विहित प्रावधानों के अनुरूप विहित प्रपत्र में प्रतिवेदन तैयार करने हेतु आवश्यक दिशा निर्देश दिए।

विकास भवन सभागार में आयोजित इस कार्याशाला में उप विकास आयुक्त ने सर्वप्रथम बीपीआरओ/ जेएसएस/ वीएलडब्लू/ पंचायत सेवक से प्रखंड विकास पदाधिकारियों द्वारा तैयार की गई उक्त विष्यक आरक्षण रोस्टर की जानकारी प्राप्त की गई। उन्होंने नियमावली के नियम-11 के अधीन तृतीय पंचायत निर्वाचन 2021 में विभिन्न कोटियों को आरक्षित निर्वाचन क्षेत्रों के आवंटन हेतु पिछड़ा वर्ग, अन्य, अनुसूचित जनजाति एवं अनुसूचित जाति के क्रम में निर्वाचन क्षेत्र आवंटित किए जाने पर जोर दिया। समीक्षा के क्रम में उपरोक्त रूप में संशोधित पंजी का संधारण नहीं पाया गया। इसपर उप विकास आयुक्त ने सभी बीपीआरओ/ जेएसएस/ वीएलडब्लू/ पंचायत सेवकों को अगले दो दिनों के अंदर विहित प्रपत्र 02 के भाग-तीन एवं चार में चक्रानुक्रम सिद्धांत के अनुसार परिवर्तन करते हुए सभी स्थानों एवं पदों के लिए प्रपत्र 02 के भाग-तीन व चार के कॉलमों को उपरोक्त रूप में संशोधित कर पंजी संधारण करने तथा प्रतिवेदन समर्पित करने का निर्देश दिया।

कार्यशाला के दौरान उप विकास आयुक्त ने संभावित त्रिस्तरीय पंचायत निर्वाचन 2021 संबधित कार्यों को कालबद्ध कार्यक्रम बताते हुए निर्वाचन प्रक्रिया को गंभीरता से लेने तथा सभी निर्वाचन संबंधी कार्य निर्धारित समयावधि के अंदर पूर्ण करने का निर्देश दिया।

उपस्थिति
कार्यशाला में उप विकास आयुक्त संजय बिहारी अंबष्ठ, जिला पंचायती राज पदाधिकारी मोनिका रानी टूटी, सभी बीपीआरओ/ जेएसएस/ वीएलडब्लू/ पंचायत सेवकों सहित अन्य उपस्थित थे।