प्रेम व विश्वास का डोर है राखी : सुखराम उरांव

रामगोपाल जेना

चक्रधरपुर : स्थानीय विधायक सुखराम उरांव ने कहा कि राखी कोई साधारण नही है बल्कि, यह आपसी प्रेम व एक-दूसरे पर विश्वास का डोर है । वे आज अपने आवास में ब्रम्हाकुमारिज पाठशाला,चक्रधरपुर की प्रभारी ब्रम्हाकुमारी(डॉ) मानिनी के साथ एक मुलाकात के दरम्यान अपने उद्गार में बताया । अपने सम्बोधन में विधायक श्री उरांव ने आगे कहा कि वचन व भाव ही इस पर्व का महत्वपूर्ण भाग है । मौके पर बीके मानिनी ने सच्ची मन की शांति कैसे प्राप्त हो, जीवन को हम हीरे तुल्य कैसे बनाए,हमारा संस्कार परिवर्तन कैसे हो-इसकी रहस्य पर प्रकाश डाला तथा रक्षाबन्धन के दरम्यान लगाया जाने वाला तिलक,रक्षासूत्र,मिठाई खिलाने व खर्ची देने की रिवाज का महत्व को बताया । उन्होंने रक्षाबंधन को भाई व बहन के पवित्र व मजबूत रिश्ते का पर्व बताया । इस अवसर पर बीके मानिनी ने विधायक सुखराम उरांव के अलावा विधायक पत्नी नवमी उरांव व पुत्र सन्नी उरांव को रक्षासूत्र बांधी तथा परमात्मा के सन्देश स्वरूप सौगात दिये । जबकि विधायक की पत्नी नवमी उरांव ने शॉल ओढ़ाकर बीके मानिनी को सम्मानित किया । मौके पर ब्रम्हाकुमारिज पाठशाला, चक्रधरपुर की सुशीला व सत्यवामा भी शामिल थी ।