सूचनायुक्तो की नियुक्ति को लेकर आरटीआई कार्यकर्ताओं ने किया तीन घंटा धरना- प्रदर्शन

महामहिम राज्यपाल के नाम पांच सूत्री मांग पत्र सौंपा डीसी को

गुमला l सूचना का अधिकार अधिनियम 2005 का सोलहवां वर्षगांठ पर सूचना का अधिकार (आरटीआई) और अस्तित्व विहिन राज्य सूचना आयोग को बचाने के लिए भारतीय सूचना अधिकार रक्षा मंच के आवाहन पर मंगलवार को जिले के दर्जनों आरटीआई एवं सामाजिक कार्यकर्ताओं ने गुमला कचहरी परिसर स्थित हड़ताली पेड़ के समीप सूचना आयोग में सूचनायुक्तों की नियुक्ति एवं अन्य मांगों को लेकर तीन घंटा तक धरना-प्रदर्शन कर महामहिम राज्यपाल के नाम पांच सूत्री मांग पत्र उपायुक्त को सौंपा गया l कार्यक्रम का नेतृत्व करते हुए भारतीय सूचना अधिकार रक्षा मंच के केंद्रीय महासचिव आनंद किशोर पंडा ने कहा कि आज ही के दिन 12 अक्टूबर 2005 को भारतीय संसद द्वारा सूचना का अधिकार भारत के सभी जन मानस को मिला जिसका आज सोलह वर्ष पुर्ण हो गया लेकिन सरकार एक दिन भी इस अधिकार को लेकर कहीं भी आरटीआई जन जागरूकता अभियान नहीं चलाया , यहां तक कि सूचना का अधिकार पर सुनवाई के लिए राज्य स्तर पर गठित राज्य सूचना आयोग में एक भी सूचनायुक्त नहीं है जो एक तरह से सरकार आम जनता को उनके संवैधानिक अधिकारों से वंचित कर रही है जिसे जनता कदापि बर्दास्त नहीं करेगी l आरटीआई कार्यकर्ता नारायण कुमार साहू ने कहा कि एक साज़िश के तहत राज्य की हेमंत सरकार आम जनता की आंखों में धूल झोंककर आरटीआई की धार को भोथरो बना दिया है , हमें सूचना मांगने का तो हक है लेकिन अधिकारियों के द्वारा गलत या मिथ्या देने पर या सूचनाएं नहीं मिलने पर हम सूचना आयोग में शिकायत या अपील तो कर सकते हैं लेकिन आयोग में कोई सूचनायुक्त ही नहीं है जो हमारी मामले पर सुनवाई करें , आयोग में सरकार अतिशीघ्र सूचनायुक्त की नियुक्ति करे l वहीं सेवानिवृत्त प्रधान सहायक बन्नु बाबु ने कहा कि मैं कई बार जिले के विभिन्न कार्यालयों से इस आरटीआई एक्ट के तहत सूचनाएं मांगा लेकिन अधिकारियों द्वारा दिग्भ्रमित करने वाला सूचनाएं मुहैया कराया गया और अंतोगत्वा मामला सूचना आयोग में लम्बित है और कब तक सही और स्पष्ट सूचनाएं मिलेगी कहना बड़ा मुश्किल है , ये सरकार की कुटनीति चाल है और आम जनता के साथ घोर मजाक किया जा रहा है l कार्यक्रम को सुनील कुमार दास,, महेन्द्र उरांव, लक्की साहु , अजीत कुमार विश्वकर्मा, बिरेंद्र तिर्की, मनोज वर्मा, मो तनवीर, हेरमन मिंज, अर्जून साहु, ओम प्रकाश शर्मा, लाल अरविन्द, अजय कुमार, अजीत कुमार विश्वकर्मा, मो शहजाद सहित कई लोगों ने सम्बोधित कर झारखण्ड सरकार के क्रिया कलापों पर सवाल उठाया और अविलम्ब सूचनायुक्तो की नियुक्ति करने की मांग किया तथा महामहिम राज्यपाल के नाम पांच सूत्रीय मांग पत्र उपायुक्त को उनके गोपनीय शाखा में समर्पित किया गया l पांच सूत्रीय मांग पत्र में प्रकाशित विज्ञापन के अनुसार आयोग में मुख्य सूचनायुक्त एवं पांच सूचना आयुक्तों की नियुक्त‌ अविलम्ब करने, आयोग में संसाधन की व्यवस्था करने, राज्य स्तरीय आरटीआई जन जागरूकता अभियान चलाने, आरटीआई को स्कूली पाठ्यक्रम में शामिल करने तथा आरटीआई कार्यकर्ताओं पर हो रहे जानलेवा हमला और झुठा मुकदमा पर रोक लगाते हुए सुरक्षा मुहैया कराने का उल्लेख है l कार्यक्रम में कुलेश्वर महतो, लक्ष्मण साहू, सुधाकर महतो, बिंदेश्वर साहू, कुलेश शर्मा, प्रकाश कुमार साहू, अजीम मियां,जलील अली, तारसियूस एक्का, उदित कुमार, कृष्ण चन्द्र शर्मा, मंगल कुमार सहित दर्जनों आरटीआई एवं सामाजिक कार्यकर्ता उपस्थित थे l