मंत्री मिथिलेश ठाकुर के अध्यक्षता में प0 सिंहभूम जिला में विभाग के कार्यो की हुई समीक्षा

रामगोपाल जेना
चाईबासा: झारखंड राज्य के पेयजल एवं स्वच्छता विभाग के मंत्री मिथिलेश कुमार ठाकुर के अध्यक्षता में पश्चिमी सिंहभूम जिला मुख्यालय शहर चाईबासा स्थित परिसदन सभागार में पेयजल एवं स्वच्छता विभाग के तहत चाईबासा/चक्रधरपुर/सरायकेला प्रमंडल अंतर्गत संचालित कार्यों का समीक्षा अधीक्षण अभियंता प्रभात कुमार सिंह सहित सभी कार्यपालक अभियंता, सहायक अभियंता की उपस्थिति में किया गया। बैठक में विभागीय मंत्री के द्वारा उपस्थित अभियंता एवं पदाधिकारी को निर्देशित करते हुए कहा गया कि रूटीन मोड में कार्य न करें, अपने कर्तव्य का जिम्मेदारी पूर्वक निर्वहन करें और निर्धारित अवधि से पूर्व योजना का क्रियान्वयन सुनिश्चित करें ताकि निर्धारित लक्ष्य को प्राप्त किया जाए।

बैठक के उपरांत विभागीय मंत्री श्री ठाकुर के द्वारा बताया गया कि क्षेत्र अंतर्गत विभाग का लक्ष्य काफी बड़ा है तथा पड़ोसी राज्यों की तुलना में जल जीवन मिशन के क्रियान्वयन में पीछे हैं। उन्होंने कहा कि सरकार गठन के उपरांत कोविड-19 वायरस संक्रमण के बावजूद 9,00,000 घरों तक शुद्ध पेयजल पहुंचाने में विभाग ने सफलता पाई है। इसके बावजूद हमारा लक्ष्य बहुत बड़ा है जिसके तहत विभाग को लगभग 59,26,000 घरों में वर्ष 2024 तक शुद्ध पेयजल पहुंचाना है और इसके लिए हम सभी को एक टीम की तरह कार्य करते हुए लक्ष्य को प्राप्त करना है।

विभागीय मंत्री मिथिलेश कुमार ठाकुर ने कहा कि विभागीय समीक्षा के क्रम में तीनों प्रमंडलों का कार्य संतोषजनक पाया गया, परंतु कार्य में तीव्रता लाने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि आने वाले महीनों में विभाग के द्वारा कई बृहद जलापूर्ति योजनाओं का उद्घाटन किया जाएगा और बहुत सारी योजनाएं निविदा प्रक्रिया में है एवं कुछ का कार्य आवंटन भी हुआ है, ऐसी योजनाओं का शिलान्यास भी किया जाना है। विभागीय मंत्री के द्वारा शहरी जलापूर्ति योजना के संदर्भ में कहा गया कि उक्त योजना पर भी विभाग की विशेष नजर है तथा निर्धारित आगामी दिसंबर माह में अधिकतम घरों में जलापूर्ति संयोजन सुनिश्चित करते हुए इसका लोकार्पण किया जाएगा।