असंगठित कामगार कांग्रेस के प्रखंड अध्यक्ष सूरज मुखी ने डीआरएम को सौंपा मांग पत्र

रामगोपाल जेना
चक्रधरपुर: चक्रधरपुर रेल मंडल में सभी ट्रेनों के पुनः परिचालन , चक्रधरपुर रेल मंडल अस्पताल में गंभीर रोगियों जैसे किडनी, हार्ट अन्य मरीजों के लिए उचित स्वस्थ सुविधा हेतु, डायलिसिस सेंटर, सिटी स्कैन सेंटर, ब्लड बैंक और क्षेत्र की समस्याओं को लेकर असंगठित कामगार कांग्रेस के प्रखंड अध्यक्ष सूरज मुखी ने दक्षिण पूर्व के मंडल रेल प्रबंधक माननीय श्री विजय कुमार साहू को दिए मांग पत्र चक्रधरपुर रेल मंडल जो कि सालाना पूरे भारतवर्ष में माल वाहक के रूप में सबसे ज्यादा राजस्व कमाता है! जो कि हम सभी के लिए अत्यंत गर्व की बात है! परंतु दूसरी तरफ कार्यरत रेल कर्मचारी, साथ ही स्थानीय लोग जो सेवा शुल्क भुगतान करके भी, गंभीर रूप से बीमार लोगों को अपने अपने बेहतर इलाज के लिए , कड़ी मशक्कत करनी पड़ती है! मरीजों को अक्सर बेहतर इलाज के लिए निजी प्राइवेट अस्पतालों का चक्कर लगाना पड़ता है!
कई ऐसे गंभीर रूप से किडनी रोगी है, जिन को स्वस्थ रहने के लिए डायलिसिस की आवश्यकता पड़ती है! समय-समय पर रक्त की अति आवश्यकता पड़ती है! जो कि अत्यंत दुर्भाग्य की बात है कि, लगातार तीन वर्षों से चक्रधरपुर रेलवे मंडल, माल वाहक के रूप में अन्य मंडलों से टॉप में रहा है परंतु तब भी स्वास्थ्य सुविधा के मामले में गंभीर रूप से किडनी रोगी के विषय में पिछड़ा है!
दूसरी तरफ कोरोना महामारी के विषम परिस्थिति में! गंभीर रूप से, डांगुवापोसी सेक्शन के गुवा, बड़ाजामदा, नोआमुंडी, मालूका सहित क्षेत्र के किडनी मरीजों को, चक्रधरपुर जाकर मंडल रेल अस्पताल में जांच कराना पड़ता है ! फिर उनको डायलिसिस के लिए निजी अस्पताल ब्रह्मानंद और आदित्यपुर स्थित मेडिट्रीना अस्पताल भेज दिया जाता है! जो कि सभी ट्रेनों के आवागमन बंद होने के कारण, इलाज के लिए मरीजों को निजी वाहनों का मनमानी भाड़ा चुका कर जाना पड़ता है ! जो कि मरीजों के परिवार की आर्थिक स्थिति और भी गर्त में घुसते जा रही है!
जो कि सूरज मुखी ने मंडल रेल अस्पताल चक्रधरपुर में , गंभीर रूप से पीड़ित मरीजों के बेहतर इलाज के लिए, एक डायलिसिस सेंटर, सिटी स्कैन सेंटर और ब्लड बैंक खोलने की मांग दूसरी तरफ
लाकडाऊन के कारण विगत मार्च 2020 से उपर्युक्त सभी ट्रेने बन्द थी जो पुनः अनलॉक डाउन, और करोना महामारी को देखते हुए, सारे शर्तों के साथ 2021 मैं टाटा बड़बिल पैसेंजर, बड़बिल हावड़ा जनशताब्दी एक्सप्रेस, और एक माह के लिए बड़बिल राहुलकेला इंटरसिटी एक्सप्रेस चालू की गई थी! परंतु सेकंड वेब कोरोना महामारी को देखते हुए ! मई माह 2021 को चल रहे ट्रेनों को पुनः बंद कर दिया गया! , जिसके कारण क्षेत्र के गरीब लाचार , मरीज , छात्र – छात्राएं एवं दैनिक जीवन यापन करने वाले असंगठित कामगार मजदूरों को दो वक्त की रोटी, और जीवन यापन के लिए काफी परेशानी हो रही है ।
1.. पश्चिम सिंहभूम के सुदूर क्षेत्रों में रहने वाले छात्र-छात्राएं जिनका पढ़ाई लिखाई कोल्हान विश्वविद्यालय से जुड़े हुए हैं , एवं आवागमन के अभाव के कारण कई शिक्षण संस्थाओं से दूर हैं जिससे इन छात्रों का भविष्य अंधेरे में है।
कई गंभीर मरीजों जिन के बड़े-बड़े शहर जैसे, चाईबासा,टाटा,हावड़ा,रांची, कटक, भुवनेश्वर आदि अन्य शहरों पर मरीजों को दुर्भाग्यवश निर्भर रहना पड़ता है जो कि यातायात आवागमन के अभाव के कारण उचित इलाज नहीं होने के कारण, जिससे उनके जान पर आ पड़ी है।
दैनिक मजदूरी करने वाले मजदूर , असंगठित कामगार जो रेलवे स्टेशनों, ट्रेनों से संबंधित अपने रोजगार चलाते हैं, जैसे झालमुड़ी, चना छोले वाला, पानी वाला, छोटे-मोटे नाश्ता ठेलेवाला जो रेलवे को कर दे कर अपना रोजगार चलाते हैं! सारे ट्रेनों के बंद होने के कारण आवागमन के अभाव के कारण दो वक्त की रोटी के जुगाड़ के लिए काफी मशक्कत कर रहे हैं। जिससे उनके घर परिवार का भविष्य अंधकार में है ! साथ ही डांगुवापोसी के ड्राइवर कॉलोनी से कलाइयां को जोड़ने वाली रेलवे सड़क, जो अत्यंत जर्जर स्थिति में है, आए दिन दुर्घटनाएं होती रहती है! ग्रामीणों रेलवे कर्मचारियों, स्कूल ट्यूशन जाते छात्रों और असंगठित कामगारों के लिए आवागमन में सुविधा हो को लेकर सड़क को पुनः निर्माण, इन सारी समस्याओं को लेकर
सूरज मुखी ने मांग करते हुए माननीय मंडल रेल प्रबंधक श्री विजय कुमार साहू जी को मांग पत्र सौंपा , श्री साहू जी ने अस्वस्थ और भरोसा दिलाया की आगामी कुछ दिनों में विशाखापट्टनम चालू होगी , फिर एक लोकल ट्रेन जल्द से जल्द चालू किया जाएगा!
मौके पर जगन्नाथपुर प्रखंड सचिव कांग्रेस सागर पान , सचिव कमल किशोर गोप, पंचायत अध्यक्ष कांग्रेश करण तिरया,सपन गुछैत, आनंद करवा, गौतम मुखी आदि असंगठित कामगार के लोग मौजूद थे!