गर्भवती महिला की मौत के बाद परिजनों का हंगामा, इलाज में लापरवाही का लगाया आरोप

पलामू से सुधीर कुमार गुप्ता की रिपोर्ट

मेदिनीनगर:पलामू जिला मुख्यालय मेदिनीनगर के पांकी रोड में संचालित मइयां-बाबु अस्पताल में चैनपुर के गांगी की एक गर्भवती महिला की मौत इलाज के दौरान हो गयी. मौत के बाद महिला के परिजनों ने जमकर हंगामा किया. परिजनों का कहना है कि इलाज में लापरवाही और संसाधन के अभाव में महिला की हुई है. हंगामे की सूचना पर शहर थाना की पुलिस मौके पर पहुंची और छानबीन में जुटी है.ऑपरेशन करने वाले डॉ. कादिर परवेज ने बताया कि महिला को खून की कमी थी. ब्लड चढ़ाने के बाद ब्लड रिएक्शन के कारण उसकी हालत बिगड़ी और मौत हो गयी. उन्होंने बेहतर इलाज के लिए रेफर कर दिया था. बॉन्ड पेपर पर सहमति के बाद ही किसी मरीज का ऑपरेशन किया जाता है।चैनपुर के गांगी निवासी महिला के ससुर रमेश कुमार चैधरी ने बताया कि उसके पुत्र रमेश कुमार चौधरी की 22 वर्षीय पत्नी विनीता कुमारी गर्भवती थी. प्रसव पीड़ा होने पर रविवार को परिजनों ने उपरोक्त अस्पताल में भर्ती कराया था।रात 11 बजे डॉ. कादिर परवेज ने महिला का ऑपरेशन किया. उसने एक बच्ची को जन्म दिया. महिला की दो वर्ष पहले शादी हुई थी.अगले दिन सोमवार की शाम से महिला की तबीयत बिगड़ने लगी. जब अस्पताल प्रबंधन से मामला नहीं संभला तो मंगलवार की अहले सुबह चार बजे महिला को रांची रेफर कर दिया गया. साथ ही मरीज को जल्द ले जाने का दबाव बनाया गया।मंगलवार की सुबह साढ़े नौ बजे रांची ले जाने के लिए एम्बुलेंस बुलाया गया. एम्बुलेंस में रखने के दौरान ही उसकी बहु ने दम तोड़ दिया.परिजनों का आरोप है कि इलाज में लापरवाही और संसाधन में कमी के कारण महिला की मौत हुई. मामले को गर्म होता देख अस्पताल प्रबंधन ने इलाज के लिए लिए गए 14,500 रुपए भी लौटा दिए. इधर, सूचना मिलने पर शहर थाना पुलिस मौके पर पहुंची और मामले की छानबीन में पुलिस जुट गयी है।