टीका पूरी तरह सुरक्षित तथा कारगर है : उपायुक्त

गुमला: वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के लगातार बढ़ते प्रसार के नियंत्रण एवं रोकथाम के मद्देनजर जिला प्रशासन गुमला कटिबद्ध है। जिला प्रशासन द्वारा निरंतर स्वास्थ्य विभाग के साथ मिलकर गुमला जिलांतर्गत कोरोना संक्रमण से प्रभावित मरीजों को बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध कराने की दिशा में कई कार्य किए जा रहे हैं।

उपायुक्त गुमला शिशिर कुमार सिन्हा ने बताया कि जिला प्रशासन का लक्ष्य यह है कि गुमला जिले में कोरोना संक्रमण से प्रभावित किसी भी मरीज को ऑक्सिजन युक्त बेड तक जाना न पड़े। इसके लिए निरंतर स्वास्थ्य व्यवस्थाओं को सुदृढ़ करने का कार्य किया जा रहा है।

उपायुक्त ने कोरोना संक्रमण से प्रभावित मरीजों की जानकारी साझा करते हुए बताया कि वर्तमान में 2138 कोरोना संक्रमित मरीजों में से 29 मरीजों को उच्चतम ईलाज हेतु अस्पताल में भर्ती किया गया है। वहीं सामान्य बेडों पर ईलाजरत कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 15 व ऑक्सिजन युक्त बेडों पर ईलाजरत कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 14 है।

उपायुक्त ने होम आईसोलेशन में रहने वाले कोरोना संक्रमण से प्रभावित मरीजों की जानकारी साझा करते हुए बताया कि जिले में होम आईसोलेशन में निवासरत कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 2097 है। जिसमें से 1800 मरीजों को स्वास्थ्य विभाग के द्वारा सहिया के माध्यम से मेडिकल किट उनके घर-घर जाकर उपलब्ध करा दिया गया है। होम आईसोलेशन में रहने वाले कोरोना संक्रमण से प्रभावित मरीजों को उच्चतम स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराने के दृष्टिकोण से सूचना भवन गुमला में संचालित जिला कोविड नियंत्रण कक्ष के माध्यम से ऐसे मरीजों का सतत् अनुश्रवण व उनके स्वास्थ्य की दैनिक निगरानी, सदर अस्पताल में संचालित कोविड चिकित्सीय नियंत्रण कक्ष के माध्यम से उक्त मरीजों को चिकित्सीय परामर्श उपलब्ध कराने तथा प्रखंड स्तर पर संचालित प्रखंड सूचना केंद्र के माध्यम से प्रतिदिन होम आईसोलेशन में रहने वाले मरीजों के स्वास्थ्य की जानकारी प्राप्त की जा रही है। उन्होंने होम आईसोलेशन में निवासरत मरीजों में से किसी भी व्यक्ति का ऑक्सिजन का स्तर असामान्य नहीं होने की जानकारी दी।

उपायुक्त ने बताया कि आगामी 14 मई 2021 से 18 वर्ष से अधिक आयुवर्ग के सभी लाभार्थियों का टीकाकरण सुनिश्चित किया जाएगा। आज के वीसी में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन द्वारा दिए गए निर्देश के आलोक में गुमला जिले में आगामी 14 मई से होने वाले टीकाकरण अभियान में लाभार्थियों को टीका प्राप्त करने के लिए कोई भी शुल्क देने की आवश्यकता नहीं है। साथ ही उनहोंने जिले के सभी 18 वर्ष से अधिक आयुवर्ग के लोगों को अधिक से अधिक संख्या में टीकाकरण हेतु अपना पंजीकरण सुनिश्चित करने की अपील की। उन्होंने टीकाकरण के प्रति फैलने वाली भ्रातिंयों को निराधार बताते हुए कहा कि टीका पूरी तरह सुरक्षित तथा कारगर है। मैंने स्वयं टीकाकरण के दोनों डोज लिए हैं। टीके से शरीर पर किसी भी प्रकार का कोई दुष्प्रभाव नहीं पड़ता है। उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण से बचने का एकमात्र उपाय है टीका लगवाना। उन्होंने आमजनों से टीकाकरण को लेकर फैलने वाली अफवाहों पर विश्वास नहीं करने तथा उन्हें निर्भीक होकर टीकाकरण लगवाने हेतु प्रेरित किया।

उपायुक्त ने जिले में कोरना संक्रमण से प्रभावित मरीजों के उत्तम ईलाज हेतु जिले के सभी सेवानिवृत चिकित्सक, नर्स एवं पारा मेडिकल कर्मियों को, जो स्वेच्छा से अपनी सेवा देना चाहते हैं, उन्हें अपना आवेदन जिला प्रशासन के समक्ष भेजने की अपील की।

उपायुक्त ने जिले के सभी व्यापारियों एवं व्यवसायियों को कोरोना काल में खाद्यान्न एवं दवाओं की जमाखोरी व कालाबाजारी न करने की चेतावनी दी है। उन्होंने जाँच के क्रम में जमाखोरी या कालाबाजारी करते हुए पाए जाने पर सुसंगत धाराओं के तहत संबंधित व्यापारियों एवं व्यवसायियों के विरूद्ध सख्त कार्रवाई करने का निर्देश दिया।

राज्य सरकार द्वारा कोरोना वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने के उद्देश्य से पूरे राज्य में लागू स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह के दौरान लगातार ऐसी शिकायतें प्राप्त हो रही हैं कि कुछ लोग सार्वजनिक स्थानों में जाने के क्रम में मास्क का प्रयोग नहीं कर रहे हैं तथा सामाजिक दूरी के नियमों का उल्लंघन कर रहे हैं। उक्त परिप्रेक्ष्य को दृष्टिपथ करते हुए उपायुक्त ने आमजनों से स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह के दौरान राज्य सरकार द्वारा जारी किए गए सभी दिशा-निर्देशों का अक्षरशः अनुपालन करने की हिदायत दी। साथ ही उन्होंने आमजनों से कोविड समुचित व्यवहार के अनुपालन पर भी जोर दिया। वहीं उन्होंने सरकार द्वारा जारी दिशा-निर्देशों का उल्लंघन करते हुए पाए जाने पर संबंधित व्यक्ति के विरूद्ध सुसंगत धाराओं के तहत कानूनी कार्रवाई करने का भी निर्देश दिया।

उन्होंने ऑक्सिजन युक्त बेडों की जानकारी साझा करते हुए बताया कि जिले में पर्याप्त संख्या में ऑक्सिजन युक्त बेडों की व्यवस्था की जा रही है। वर्तमान में जिला कोविड अस्पताल में 46 ऑक्सिजन युक्त बेडों की व्यवस्था की गई है। जिसमें से वर्तमान में 14 ऑक्सिजन युक्त बेडों पर कोरोना संक्रमण से प्रभावित मरीज ईलाजरत हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *