चितपूर्णी प्रबंधन की लापरवाही से हुई विकास यादव की मौत : महेंद्र पाठक

प्रबंधन पर हत्या के मुकदमा दर्ज करें जिला प्रशासन।

मृतक के परिवार को बीस लाख रुपये मुआवजा दे प्रबंधन एवं आश्रितों की नौकरी और पेंशन 

रामगढ़ से वली उल्लाह की रिपोर्ट
रामगढ़: भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के राष्ट्रीय परिषद के सदस्य सह झारखंड राज्य के सहायक सचिव महेंद्र पाठक ने कहा कि मांडू के 15 माइल में चित पूर्णी आयरन स्पंज कारखाना वर्षों से चल रहा है। जहां पर बांका जिला निवासी विकास यादव कारखाना में काम करने के दौरान भठी में जिंदा जल कर मर गए ,उक्त कारखाना में मजदूरों की सुरक्षा के नाम की कोई चीज नहीं है। कारखाना निरीक्षक ,श्रम विभाग एवं प्रबंधन की मिलीभगत से बगैर सुरक्षा संबंधित कीट दिए हुए लोगों से काम कराए जाते हैं ।ए तीनों के मिलीभगत से लापरवाही का नतीजा है कि विकास यादव की मौत हो गई । भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी मांग करती है कि प्रबंधन पर हत्या के मुकदमा दर्ज कर गिरफ्तार करें और मृतक के परिवार को 2000000 रुपए मुआवजा ,आश्रितों की नौकरी और पेंशन दिया जाए। उन्होंने जिला प्रशासन से मांग करते हुए कहा इस तरह की घटना रामगढ़ जिले के सभी कारखानों में लगातार घटती रहती है। गरीब मजदूर लोगों की जान की कोई कीमत नहीं है । लापरवाही में अधिक मुनाफाखोरी के लिए कारखाना प्रबंधन, जिला प्रशासन ,स्थानीय पुलिस प्रशासन के गठजोड़ से जिले के कारखाने चल रहे हैं ।जहां पर श्रम कानून धज्जियां उड़ाते हुए सांठगांठ के आधार पर चलाए जा रहे हैं। इसीलिए जिले के कारखानों में लगातार घटनाएं घटती रहती है । एक मामूली रकम देकर मामले को रफा-दफा कर दिया जाता है। मजदूरों की जान की कोई कीमत प्रबंधन के सामने नहीं है। इसलिए भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी सरकार से मांग करती है कि जिले के सभी कल कारखाना मेअधिनियम एवं श्रम अधिनियम के अनुपालन कराते हुए कारखाना के संचालन किया जाए और लापरवाही बरतने वाले प्रबंधन पर मुकदमा दर्ज किया जाए।