सद्गुरु संग जब प्रीत लगाई , सुमिरन – ध्यान की पूंजी पाई

रामगढ़: दीप प्रज्वलन , पुष्पार्पण , गुरु वंदना , प्राणायाम , संजीवनी ध्यान , उत्सव एवं आत्मावलोकन के विभिन्न आयामों से गुजरती हुई। रविवार , प्रातः 07:00 बजे से ) ओशो ध्यान बेला आस्था , श्रद्धा एवं समर्पण के साथ प्रसाद ग्रहण तक सानुराग संपन्न हुई।
ध्यान सत्र का संचालन स्वामी शिवशंकर प्रसाद एवं स्वामी किशोर गुप्ता ने संयुक्त रूप से किया। ध्यान सत्र के विसर्जन पर आज ब्रह्मलीन होने वाली ओशो संन्यासिन मां पार्वती की दिवंगत आत्मा की शांति के लिए दो मिनट का मौन रखकर श्रद्धांजलि अर्पित की गई।
इस अवसर पर स्वामी राज़ रामगढी , अयोध्या प्रसाद , मोहन अग्रवाल , शिवकुमार केशरी , सुधीर गुप्ता , सुजल , सूरज , सुमन देवी , सोनी देवी , मोनी देवी , सुनीता देवी , अंगिता देवी , फुलवंती देवी , शकुंतला देवी , दुर्गेश कुमार , सुदर्शन गुप्ता सहित अन्य ओशो साधकगण उपस्थित थे।