जनता की समस्या के समाधान को लेकर किसी भी हद तक जाने को तैयार : सुखराम

रामगोपाल जेना

चक्रधरपुर : बिजली विभाग की लापरवाही जो दिनों-दिन विभाग की आदत में तब्दील होती जा रही जिससे विधायक सुखराम उराँव के उपवास में जाने के निर्णय ने बदल डाला । रविवार 18 जुलाई को बिजली विभाग के महाप्रबंधक परितोष कुमार सहित विभाग के कई बड़े आधिकारी पहुँचे विधायक आवास वार्ता के दौरान बिजली विभाग के खिलाफ उपवास कार्यक्रम को स्थागित करने का आग्रह करते हुए सभी समास्याओं का तत्काल समाधान करने का आश्वासन दिया गया ।
इस पर
विधायक सुखराम उराँव ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा – अब तक हमारे आलावा कई समाजिक संगठन, नेता सहित कई संगठन अपने-अपने तरीके से पत्राचार, लिखित व मौखिक शिकायत के माध्यम से बिजली विभाग के रवैये को सुधारने का प्रयास किया जा रहा था । जिससे बिजली विभाग ने कितनी गम्भीरता से लिया ये वर्तमान विद्युत आपूर्ति की स्थिति बयां कर रही है । हम जानते हैं कि हम एक सत्ताधारी दल के विधायक हैं, जिससे उपवास /भूख-हड़ताल में जाने पर कई सवाल खड़े किये जायेंगे, पर मुझे एक जनप्रतिनिधि होने के नाते उस सवाल का जबाब पहले देना है जो क्षेत्र की जनता पूछ रही है, जिन्होंने बड़ी आशा और उम्मीद के साथ अपने समास्याओं की समाधान के लिये मुझे विधायक का पद सौंपा है ।
बिजली विभाग के महाप्रबंधक ने जानकारी देते हुए कहा- कि लाॅक डाउन के पूर्व विधायक कार्यालय द्वारा सौंपी गई सभी खराब ट्रांसफार्मर की सूची के अनुसार अधिकांश ट्रांसफॉर्मर बदले जा चुके हैं, लाॅक डाउन की बाधा के कारण समास्या हो रही थी, वर्तमान में ट्रान्सफार्मर की कमी नहीं है जल्द ही सूची के बाकि ट्रांसफॉर्मर व वर्तमान में खराब पड़े ट्रांसफार्मर को बदल दिया जायेगा । कुरूलिया ग्रीड जुलाई माह के अंत तक एवं लण्डुपोदा ग्रीड सितम्बर माह में हर हाल में चालू करने एवं ग्रामीण व शहरी क्षेत्र में 20 से 22 घंटे तक निर्वाधित बिजली देने की बात कही गई ।
विधायक जी ने शोसल मीडिया, प्रिन्ट मीडिया व इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के उन सभी साथियों को धन्यवाद दिया जो अपने-अपने तरीके से बिजली की समस्या को उठाने का काम कर रहे थे ।