फाइलेरिया उन्मूलन कार्यक्रम का हुआ शुभारंभ

– 23 से 27 अगस्त तक चलाया जाएगा मास ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन कार्यक्रम
गोड्डा: सोमवार को समाहरणालय स्थित सभागार में फाइलेरिया उन्मूलन कार्यक्रम के तहत एमडीए (मास ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन) कार्यक्रम का उद्घाटन उपायुक्त भोर सिंह यादव, सिविल सर्जन डॉ मंटू टेकरीवाल, महागामा के अनुमंडल पदाधिकारी जीतेंद्र कुमार देव सहित अन्य पदाधिकारियों की उपस्थिति में दीप प्रज्वलित कर किया गया। इस मौके पर उपायुक्त श्री यादव ने कहा कि यह कार्यक्रम 23 अगस्त से 27 अगस्त 2021 तक पूरे जिले में चलाया जाएगा।
जिले में फाइलेरिया उन्मूलन कार्यक्रम 23 एवं 24 अगस्त को दो दिन बूथ पर (आंगनवाड़ी केंद्र,पोलियो बूथ) और 25 से 27 अगस्त तक घर-घर जाकर दवा वितरक कार्यकर्ता द्वारा डीईसी एवं अल्बेंडाजोल की गोली सभी लक्षित व्यक्तियों को सामने में खिलाई जाएगी। यह दवा खाली पेट नहीं खाना है। साथ ही गर्भवती महिला, दो वर्ष से कम उम्र के बच्चे, गम्भीर रूप से बीमार व्यक्ति को नहीं खाना है।
मौके पर सिविल सर्जन डॉ मंटू टेकरीवाल ने कहा कि इस बात से सभी अवगत हैं कि फाइलेरिया एक गंभीर बीमारी है। जिसकी वजह से प्रभावित अंग जैसे- हाथ, पांव का फूलना और हाइड्रोसिल होता है। हाइड्रोसील के रोगी का उपचार ऑपरेशन द्वारा संभव है, परंतु फाइलेरिया ग्रसित रोगी अपने पूरे जीवनकाल इस बीमारी से ग्रसित रहते हैं और उन्हें सामाजिक उपेक्षा का सामना करना पड़ता है। ऐसे में सभी से अपील है कि फाइलेरिया रोधी दवा का सेवन अवश्य करें और गोड्डा जिले को फाइलेरिया मुक्त बनाने में सहयोग करें। जिले के लक्षित जनसंख्या (2 वर्ष से कम उम्र के बच्चे, गर्भवती महिलाएं एवं गंभीर रूप से बीमार व्यक्ति को छोड़कर) को वर्ष में एक निश्चित तिथि को उम्र के अनुसार डीईसी एवं अल्बेंडाजोल गोली की एकल खुराक खिलाई जाएगी। खाली पेट दवा का सेवन नहीं करना है। उन्होंने कहा कि समाज में इस रोग के प्रति लापरवाही एवं अनभिज्ञता के कारण यह रोग भयावह हो जाता है और ग्रसित व्यक्ति सामान्य जीवन जीने में असमर्थ हो जाता है। ऐसे में जिले वासियों से अपील है कि वे स्वास्थ्य विभाग एवं जिला प्रशासन का सहयोग करते हुए इस अभियान को सफल बनाएं।मौके पर जिला जनसंपर्क पदाधिकारी अभय कुमार, स्वास्थ्य विभाग के कर्मी सहित अन्य उपस्थित थे।