राजमहल परियोजना प्रबंधन की लापरवाही से कामगारों में गहरा रहा असंतोष: राधेश्याम

– सीटू ने दी आंदोलन की धमकी
– कार्मिक विभाग द्वारा कामगारों के पे स्लिप में अशुद्धियों की भरमार
गोड्डा: ईस्टर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड की राजमहल परियोजना, ललमटिया में कार्मिक विभाग के पदाधिकारी एवं कर्मचारियों की मिलीभगत से सैकड़ों मजदूरों की पे स्लिप में भारी मात्रा में गड़बड़ी पाई गई है। इसके कारण कामगारों में असंतोष गहराता जा रहा है। सीटू के वरिष्ठ नेता डॉ राधेश्याम चौधरी ने प्रबंधन की लापरवाही के खिलाफ उग्र आंदोलन की चेतावनी दी है।
डॉ चौधरी के अनुसार, कर्मचारियों का जन्मतिथि, नाम, पिता का नाम आदि में गड़बड़ी मिली है। परियोजना के कार्मिक विभाग द्वारा ईसीएल हेड क्वार्टर को भेजी गई कार्मिकों की सूची में इस तरह की भयंकर गड़बड़ी की गई है। इसके कारण प्रभावित कामगारों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।
डॉ चौधरी ने कहा कि कर्मचारियों को परेशान करने की रणनीति कार्मिक विभाग द्वारा अपनाई गई है। कर्मचारी काफी परेशान हैं। गलतियों को सुधारवाने के लिए कार्यालय का चक्कर लगा रहे हैं। कोल नेट का हवाला देकर कर्मचारियों को बहला दिया जाता है। जबकि कोल नेट में डाटा कार्मिक विभाग के द्वारा ही डाला गया है।
सितंबर 20 में शिकायत दर्ज करा दी गई है, इसके बावजूद अभी तक पे स्लिप में सुधार नहीं की गई है।
डॉ चौधरी ने कहा कि कर्मचारियों में आक्रोश बढ़ता जा रहा है। लॉकडाउन के उपरांत जोरदार आंदोलन, धरना, प्रदर्शन किया जाएगा। इसकी जिम्मेवारी परियोजना प्रबंधन की होगी।