बच्चे के माता पिता अभिभावकों संग बच्चों को बाल अधिकारों के प्रति संवेदनशील होने की जरूरत

बोकारो: आज जरीडीह प्रखंड के बाँधडीह दक्षिण पंचायत के गोपिनाथपुर गांव में बाल अधिकार सरंक्षण जागरूकता अभियान मनोवैज्ञानिक सह बाल अधिकार कार्यकर्ता डॉ प्रभाकर के संयोजन से चलाया गया ।

डॉ प्रभाकर कुमार ने बाल संवेदनशीलता की बात ग्राम पंचायत स्तर से बढ़ाने की बात रखी । गांव में बच्चों समेत उनके माता पिता अभिभावकों समुदाय समाज में बाल मुद्दों की अद्यतन जानकारी उपलब्ध करवाकर ही संवेदनशील समाज निर्मित की जा सकती है । समाज में बाल विवाह , बाल श्रम , बाल उत्पीड़न की विभिन्न घटनाएं , बाल दुर्व्यापार , लिंग असमानता जैसी पूर्वाग्रह मानसिकता हावी हैं । जिले में बच्चों के साथ अमानवीय हरकतों का सिलसिला जारी है इसी परिपेक्ष्य में जागरूकता के माध्यम से ग्रामीणों सहित बच्चों उनके माता पिता अभिभावकों को संवेदनशील बनाया जा रहा है ।
गांव के मुखिया हाकिम महतो ने अभिभावकों समेत बच्चों व ग्रामीणों में बाल अधिकारों व कानून की जानकारी को बहुत ही प्रासंगिक बतलाया व समाज इससे जीवंतता की ओर बढ़ पायेगा । बच्चे की सुरक्षा झारखंड राज्य के लिये मील का पत्थर साबित होगा ।

आज के जागरूकता अभियान में समाज सेवी सदानंद चटर्जी , भोला नाथ गोस्वामी , गोवर्धन गोस्वामी , निरंजन सिंह , नंदकिशोर गोस्वामी , जोबा गोस्वामी , शंकरी मुखर्जी , युवाओं में कृष्ण कांत तिवारी , इंद्रजीत कुमार , ऋषभ कुमार आदि उपस्थित थे । बच्चों में मास्क एवं चॉकलेट वितरित कर उनके उत्साह को बढ़ाया गया । ज़िले मे लगातार जागरूकता अभियान के माध्यम से बच्चों समेत उनके माता पिता अभिभावकों को संवेदनशील बनाये जाने व बाल अधिकारों के प्रति सजग बनाये जाने का भागीरथी प्रयास अनवरत जारी है ।