सादगी से दी गई मां दुर्गे को विदाई

– कोरोना के कारण विसर्जन जुलूस पर लगा ग्रहण
– विधि व्यवस्था के लिए पुलिस बल थी मुस्तैद

गोड्डा से अभय पलिवार की रिपोर्ट
गोड्डा: जिला मुख्यालय के पूजा पंडालों पर स्थापित मां दुर्गा की प्रतिमाओं का विसर्जन शनिवार को किया गया। सरकारी गाइडलाइन का अनुपालन करते हुए प्रतिमा को शहर में घुमाए बगैर निकटवर्ती तालाबों में विसर्जित किया गया। भक्तों ने सादगी पूर्वक नम आंखों से मां को अंतिम विदाई दी।
प्रतिमा विसर्जन का दौर शनिवार को दोपहर से प्रारंभ हुआ। जिला प्रशासन द्वारा प्रतिमा विसर्जन के लिए अलग-अलग समय एवं स्थान निर्धारित किया गया था। शहर की सबसे पुरानी बड़ी दुर्गा मंदिर की प्रतिमा का विसर्जन मूलर्स टैंक में किया गया। वहीं रौतारा चौक एवं शिवपुर में स्थापित मां दुर्गे की प्रतिमा का विसर्जन राज कचहरी सरोवर में किया गया। कोरोना के कारण इस वर्ष विसर्जन जुलूस पर ग्रहण लग गया। बिना किसी तामझाम के सादगी पूर्वक मां दुर्गे की प्रतिमाओं को निकटवर्ती तालाबों में विसर्जित किया गया। विसर्जन जुलूस में अच्छी खासी संख्या में भक्त शामिल थे।
विसर्जन जुलूस के मौके पर विधि व्यवस्था बनाए रखने के लिए जगह जगह पुलिस बल की तैनाती की गई थी।