पुण्यतिथि पर याद किए गए स्वतंत्रता सेनानी विश्वनाथ मंडल

गोड्डा: पोड़ैयाहाट प्रखण्ड अंतर्गत बक्सरा ग्राम के परमवीर घाट में दिवंगत स्वतन्त्रता सेनानी विश्वनाथ मंडल की सातवीं पुण्यतिथि धूमधाम से मनाई गई। सर्वप्रथम सत्संग प्रवचन एवं सर्वधर्म प्रार्थना सभा का आयोजन हुआ। सभा की अध्यक्षता कर रहे स्वतन्त्रता सेनानी नंदकिशोर मांझी ने कहा कि बक्सरा स्वतंत्रता सेनानियों की धरती है। वे 1933-34 से ही देश की आजादी के लिए यदुनंदन मंडल की अगुवाई में निकल चुके थे। 1942 में जगदीश नारायण मंडल की अगुवाई में यह गांव राष्ट्रीय ध्वजवाहक बना। सैकड़ों लोगों ने अंग्रेजों की लाठियां खाई। हजारों लोगों ने जेल में शरण ली। स्व विश्वनाथ मंडल स्वतंत्रता सेनानी एवं पूर्व सांसद जगदीश नारायण मंडल के प्रिय भतीजा थे। वे बहुत ही जोशीले और उत्साही क्रांतिकारी थे। इन्होंने भी अंग्रेजों की लाठियां खाई। वर्षो जेल में रहे। वे आनंद शंकर माधवन के प्रिय शिष्य थे।
मौके पर “1942 का आंदोलन और गोड्डा जिला का योगदान” विषयक परिचर्चा भी आयोजित की गई। परिचर्चा में भाग लेने वालों में प्रो प्रेमनन्दन मंडल, झामुमो की केंद्रीय समिति के सदस्य राजेश मंडल, गोड्डा नगर अध्यक्ष जितेंद्र कुमार उर्फ गुड्डु मंडल, रघुनाथ यादव, सुभाष यादव, डॉ ऋत्विज, डॉ धर्मेंद्र, डॉ पूनम रानी, हेमंत मंडल, देवेंद्र सिंह, राजकुमार भगत, सुरजीत झा, समीर दुबे, अमित राय, अशोक यादव, सौरभ परासर उर्फ बच्चु झा, चुनचुन यादव एवं अर्चना देवी के नाम शामिल हैं। स्वागत सम्बोधन कुंदन मंडल ने तथा मंच संचालन ओमप्रकाश मंडल ने किया। कार्यक्रम “बक्सरा महोत्सव” के तहत विचार गोष्ठी के अलावा स्वास्थ्य शिविर, फुटबॉल प्रतियोगिता, रक्तदान शिविर एवं स्वतन्त्रता सेनानी सम्मान समारोह का भी आयोजन किया गया। धन्यवाद ज्ञापन अजित कुमार महात्मा ने किया।